पारस एचएमआरआई के डॉक्टरों की टीम ने बताया गुर्दा को स्वस्थ रखने के अनोखा उपाय

गुर्दा प्रत्यारोपित मरीजों व डोनर को किया गया सम्मानित

पटना। गुर्दा (किडनी) प्रत्यारोपण मामले में वर्ल्ड क्लास सुविधाओं से लैस पारस एचएमआरआई अस्पताल में गुर्दा प्रत्यारोपित मरीजों व डोनर को जागरूकता सप्ताह के तहत सम्मानित किया गया, साथ ही उन्हें सामान्य जीवन जीने के तरीके बताए गये।

पारस एचएमआरआई हॉस्पिटल (पटना) के इंस्टीट्यूट ऑफ यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी एवं ट्रांसप्लांट के निदेशक डॉ. अजय कुमार एवं उनकी टीम ने गुरुवार को हॉस्पिटल में किडनी प्रत्यारोपण करानेवाले मरीजों के सम्मान समारोह में कहा कि पारस एचएमआरआई हॉस्पिटल में लगातार सफलतापूर्वक किडनी प्रत्यारोपण किया जा रहा है। अबतक यहां 52 सफल प्रत्यारोपण हो चुके हैं। पारस एचएमआरआई हॉस्पिटल में किडनी प्रत्यारोपण की सफलता का अनुपात देश के किसी भी दूसरे राज्य के समानांतर है।

पारस हेल्थ केयर (ईस्ट) के रीजनल डायरेक्टर डॉ. सुहास आराध्ये ने इस मौके पर कहा कि गुर्दा प्रत्यारोपण के लिए मरीजों को अब कहीं बाहर जाने की आवश्यकता नहीं है। पारस एचएमआरआई अस्पताल में ही विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम मरीजों को विश्वस्तरीय सुविधा उपलब्ध करा रही है। सरकार भी गरीब मरीजों को सहायता दे रही है।
डॉ. अजय कुमार अपने सहयोगी डॉ. अपूर्व कुमार चौधरी, डॉ. अंशुमान आशु, डॉ. शशि, डॉ. संतोष कुमार सिंह आदि के साथ मिलकर मरीजों का गुर्दा प्रत्यारोपण सफलतापूर्वक कर रहे हैं। पारस एचएमआरआई हॉस्पिटल में 09 से 16 मार्च तक गुर्दा जागरूकता सप्ताह के तहत विचार गोष्ठी समेत कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

इस दौरान पारस एचएमआरआई में डायलिसिस करा रहे मरीजों से भी विचारों का आदान प्रदान हुआ। वक्ताओं ने इस बात पर चिंता जताई कि जितनी संख्या में हमारे यहां मरीज हैं, उस अनुपात में उनका गुर्दा प्रत्यारोपण नहीं हो पा रहा है जबकि पारस एचएमआरआई में गुर्दा प्रत्यारोपण काफी कम खर्च में होता है। राज्य सरकार भी अनुदान देकर गरीब मरीजों की मदद करती है।

इस अवसर पर पारस एचएमआरआई अस्पताल प्रबंधन की ओर से उपस्थित गुर्दा प्रत्यारोपित मरीजों से अपील की गई कि ज्यादा से ज्यादा मरीजों को पारस एचएमआरआई अस्पताल में किडनी प्रत्यारोपण के लिए प्रेरित करें ताकि कम खर्च में उनका बेहतर इलाज हो सके।

आइए जानिए पारस अस्पताल के बारे में

पारस एचएमआरआई अस्पताल, पटना बिहार और झारखंड का पहला कॉर्पोरेट अस्पताल है। 350 बिस्तरों वाले पारस एचएमआरआई अस्पताल में एक ही स्थान पर सभी चिकित्सा सुविधाएं हैं। हमारे पास एक आपातकालीन सुविधा, तृतीयक और चतुर्धातुक देखभाल, उच्च योग्य और अनुभवी डॉक्टरों के साथ अत्याधुनिक चिकित्सा केंद्र है। पारस इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर केयर बिहार में अपनी विशेषज्ञता, बुनियादी ढांचे और व्यापक कैंसर देखभाल प्रदान करने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल के लिए प्रसिद्ध है।

Related posts